भारत के राष्ट्रपति

bharat ke rashtrapati, indian president, rashtrapati list, bharat ke rashtrapati kaun hai,  भारतीय राष्ट्रपति, भारत के राष्ट्रपति, राष्ट्रपति सूची, भारत के राष्ट्रपति कौन हैं,

भारत का राष्ट्रपति देश का सबसे सर्वोच्च पद और तीनों भारतीय सेनाओं का प्रमुख होता है तथा भारत के प्रथम नागरिक जाना जाता है।

राष्ट्रपति के कार्यकाल (Tenure of President of India)

भारत के राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है।

क्र.स. भारत के राष्ट्रपतियों के नाम (Names of Presidents of India) राष्ट्रपति के कार्यकाल (Tenure of President of India)
1. डॉ. राजेंद्र प्रसाद 26 जनवरी 1950 से 13 मई 1962
2. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन 13 मई 1962 से 13 मई 1967
3. डॉ. जाकिर हुसैन 13 मई 1967 से 3 मई 1969
4. वी. वी. गिरि 24 मई 1969  से  24 अगस्त 1974
5. डॉ. फखरुद्दीन अली अहमद 24 अगस्त 1974 से 11 वाँ 1977
6. नीलम संजीव रेड्डी 25 जुलाई 1977 से 25 जुलाई 1982
7. ज्ञानी जैल सिंह 25 जुलाई 1982 से 25 जुलाई 1987
8. आर वेंकटरमन 25 जुलाई 1987 से 25 जुलाई 1992
9. डॉ. शंकर दयाल शर्मा 25 जुलाई 1992  से 25 जुलाई 1997
10. के. आर. नारायणन 25 जुलाई 1997 से 25 जुलाई 2002
11. डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007
12. प्रतिभा देवीसिंह पाटिल 25 जुलाई 2007  से  25 जुलाई 2012
13. डॉ. प्रणब मुखर्जी 25 जुलाई 2012 से 25 जुलाई 2017
14. राम नाथ कोविंद 25 जुलाई 2017  से वर्तमान

 

भारत के सभी महामहिम राष्ट्रपतियों की सूची उनसे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य  निम्न प्रकार है-

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

bharat ke rashtrapati

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति  है। इनका कार्यकाल 26 जनवरी 1950 से 13 मई 1962  तक। ये सर्वाधिक समय (12 वर्ष) तक भारत के राष्ट्रपति रहे।

1957 ई. में डॉ. प्रसाद को भारत के राष्ट्रपति के लिए फिर से चुना गया। इस प्रकार वह दो कार्यकालों में सेवा करने वाले एकमात्र भारतीय राष्ट्रपति बने।

राजेन्द्र प्रसाद संविधान सभा के अध्यक्ष भी थे। 1962 में इन्हें भारत रत्न दिया गया था।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए और बिहार के क्षेत्र से एक प्रमुख नेता बन गए।

श्री राजेन्द्र  प्रसाद ने 1931 के नमक सत्याग्रह और 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लिया जिनके लिए इनको जेल जाना पड़ा था।

 

 

 

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

bharat ke rashtrapati Dr. Sarvepalli Radhakrishnan

सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के पहले उपराष्ट्रपति (1952-1962) और 1962 से 1967 तक भारत के दूसरे राष्ट्रपति थे।

 

इनका कार्यकाल 13 मई 1962 से 13 मई 1967 तक रहा।

डॉ. राधाकृष्णन को 1954 में भारत रत्न दिया गया था। उन्हें अंग्रेजो द्वारा 1931 में नाइटहुड की उपाधि से सम्मानित किया गया तथा 1963 में ब्रिटिश रॉयल ऑर्डर ऑफ़ मेरिट की मानद सदस्यता प्राप्त हुई।

 

 

1947 में जब भारत आजाद हुआ , तब डॉ. राधाकृष्णन ने 1949 से 1952 तक यूनेस्को (1946–52) में भारत का प्रतिनिधित्व किया और बाद में सोवियत संघ में भारत के राजदूत भी रहे।

 

डॉ. जाकिर हुसैन (Dr. Zakir Hussain)

3 bharat ke rashtrapati Dr. Zakir Hussain

image source – wikipedia.org

डॉ. जाकिर हुसैन भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल 13 मई 1967 से  3 मई 1969 तक रहा। डॉ. हुसैन राष्ट्रपति बनने से पहले 1957 से 1962 तक बिहार के राज्यपाल और 1962 से 1967 तक भारत के उपराष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।

 

श्रीमान जाकिर हुसैन पहले राष्ट्रपति थे, जिनकी मृत्यु पद पर रहते हुए हुई थी। इनकी मृत्यु के बाद तात्कालिक उपराष्ट्रपति वी. वी गिरि को कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया था।

 

वी वी. गिरी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनने से राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति पद खाली होने पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश मोहम्मद हिदायतुल्लाह 20 जुलाई 1969 से 24 अगस्त 1969 तक कार्यवाहक राष्ट्रपति बने।

 

 

ये अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति और दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के सह-संस्थापक थे। इनको 1963 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था।

 

वी वी गिरि (Varahagiri Venkata Giri)

4 bharat ke rashtrapati Varahagiri Venkata Giri

image source – facebook.com

इनका पूरा नाम वराहगिरी वेंकट गिरि है। राष्ट्रपति पद के लिए स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुने जाने वाले एकमात्र व्यक्ति थे। कांग्रेस का समर्थन प्राप्त होते हुए भी ये निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में जीते थे।

 

इनका कार्यकाल 24 अगस्त 1969 से 24 अगस्त 1974 तक रहा। वी. वी. गिरी के निर्वाचन के समय दूसरे चक्र की मतगणना करनी पड़ी।

वी. वी. गिरी डॉ. जाकिर हुसैन के मृत्यु की मृत्यु के बाद बने भारत के पहले कार्यवाहक राष्ट्रपति थे।

वी. वी. गिरी 1947 – 1951 के बीच सीलोन (Ceylon) के भारत के प्रथम उच्चायुक्त (High Commissioner) थे।

1951 के प्रथम लोकसभा चुनावों में, वी वी गिरी मद्रास के पथपटनम (Pathapatnam) लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से पहली लोकसभा के लिए चुने गए थे।

 

उन्होंने उपराष्ट्रपति और फिर राष्ट्रपति के रूप में कार्य करने से पहले उत्तर प्रदेश (1956 से 1960), केरल (1960 से 1965) और कर्नाटक के राज्यपाल (1967 से 1969) के रूप में सेवाएँ दी।

 

इन्हें 1975 में भारत रत्न दिया गया था।

 

फखरुद्दीन अली अहमद (Fakhruddin Ali Ahmed)

5 bharat ke rashtrapati Fakhruddin Ali Ahmed

image source – theprint.in

ये दूसरे मुसलिम राष्ट्रपति थे जिनकी मृत्यु पद में रहते हुए हुई। इनकी मृत्यु के पश्चात् बी. डी. जत्ती को कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया।

 

इनका कार्यकाल 24 अगस्त 1974 से 11 फरवरी 1977 तक रहा। इनका कार्यकाल संभवतः सबसे विवादास्पद था क्योंकि इनके द्वारा देश भर में आपातकाल घोषित कर दिया गया था।

 

इनको इंदिरा गांधी के साथ एक बैठक के बाद आधी रात को कागजात पर हस्ताक्षर करके आपातकाल की घोषणा जारी करने के लिए जाना जाता है।

 

 

डॉ. फखरुद्दीन ने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लिया एवं गिरफ्तार हुए और इनको साढ़े तीन साल की सजा हुई।

 

 

डॉ. फखरुद्दीन कांग्रेस में असम विधानसभा के लिए (1957-1962) और जनिया निर्वाचन क्षेत्र से (1962-1967) चुने गए थे।

 

नीलम संजीव रेड्डी (Neelam Sanjiv Reddy)

6 bharat ke rashtrapati Neelam Sanjiv Reddy

image source – radhikaranjan.blogspot.com

कार्यकाल 25 जुलाई 1977 से 25 जुलाई 1982 तक। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे नीलम संजीव रेड्डी भारत के छठे राष्ट्रपति बने। यह एक बार चुनाव हारने के बाद भारत के एकमात्र निर्विरोध राष्ट्रपति चुने गए।

ये पहले भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य थे। उन्होंने प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और इंदिरा गांधी के कार्यकाल के दौरान केंद्रीय मंत्री के रूप में कार्य किया।

 

 

नीलम संजीव रेड्डी आंध्र प्रदेश राज्य के पहले मुख्यमंत्री थे। उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष के रूप में भी काम किया था। 1975 में, एन.एस रेडडी जनता पार्टी में शामिल हो गए और 1977 तक भारत के राष्ट्रपति चुने गए।

 

ज्ञानी जैल सिंह (Giani Zail Singh)

7 bharat ke rashtrapati Giani Zail Singh

image source – theprint.in

भारत के पहले सिक्ख राष्ट्रपति थे।

ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के एक राजनेता थे, और इन्होंने केंद्रीय मंत्रिमंडल में कई मंत्री पद पर कार्य किया। राष्ट्रपति बनने के पहले पंजाब के मुख्यमंत्री तथा केंद्र में मंत्री रहे थे।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 1982 से 25 जुलाई 1987 तक रहा। ज्ञानी जैल सिंह के कार्यकाल के दौरान, 1984 के सिख विरोधी दंगा, इंदिरा गांधी की हत्या, ब्लू स्टार मिशन की स्थापना जैसी घटनाएँ हुई।

 

भारतीय डाकघर संबंधी विधेयक पर पाकेट वीटो (Pocket Vito) का प्रयोग किया इस प्रकार पाकेट वीटो का प्रयोग करने वाले प्रथम राष्ट्रपति थे।

 

आर. वेंकटरमण (Ramaswamy Venkataraman)

8 bharat ke rashtrapati Ramaswamy Venkataraman

आर वेंकटरमन ने भारत के आठवें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। इन्होंने उपराष्ट्रपति, वित्त मंत्रि, और रक्षा मंत्रि के पद पर भी कार्य किया।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 1987 से 25 जुलाई 1992 तक रहा। ये 1984-87 में उपराष्ट्रपति भी रहे।

इनको संविधान सभा और अनंतिम कैबिनेट के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया था।

ये कांग्रेस पार्टी से लोकसभा के सदस्य के रूप में चार बार चुने गए।

आर. वेंकटरमण को सर्वाधिक प्रधानमंत्री को उनकी पद की शपथ दिलाने का गौरव प्राप्त है।

 

डॉ. शंकर दयाल शर्मा (Dr. Shankar Dayal Sharma)

9 bharat ke rashtrapati Dr. Shankar Dayal Sharma

image source – jagran.com

डॉ. शंकर दयाल शर्मा भारत के नौवें राष्ट्रपति थे।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 1992 से 25 जुलाई 1997 तक रहा।

डॉ. शर्मा भोपाल के मुख्यमंत्री (1952-1956), और कैबिनेट मंत्री (1956-1967), शिक्षा मंत्री, कानून मंत्री, सार्वजनिक निर्माण, उद्योग और वाणिज्य मंत्री, राष्ट्रीय संसाधन और राजस्व विभागों के मंत्री रहे।

 

के. आर. नारायणन (Kocheril raman narayanan)

10 bharat ke rashtrapati Kocheril raman narayanan

image source – stateofkeralas.in

के. आर नारायण 1992 में नौवें उपराष्ट्रपति के रूप में चुने गये तथा 1997 में दसवें राष्ट्रपति बने। ये भारत के पहले दलित राष्ट्रपति थे।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 1997 से 25 जुलाई 2002 तक रहा। वे लोकसभा चुनाव मतदान करने वाले तथा राज्य की विधानसभा को सम्बोधित करने वाले पहले राष्ट्रपति थे।

इन्होंने जापान, थाईलैंड, तुर्की, चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका और यु.के. में राजदूत के रूप में कार्य किया

नेहरू द्वारा के. आर नारायण को “देश का सर्वश्रेष्ठ राजनयिक” कहा गया।

 

इंदिरा गांधी के अनुरोध पर के. आर. नारायणन ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की और लोकसभा में लगातार तीन चुनाव जीते।

इन्होंने प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नेतृत्व मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री के रूप में कार्य भी किया।

 

डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम (Dr. Abul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam)

11 bharat ke rashtrapati Abul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam

image source – Kiit.ac.in

डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम भारत के राष्ट्रपति बनने वाले पहले वैज्ञानिक थे। वह सर्वाधिक मतों से जीतने वाले पहले राष्ट्रपति हैं।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक रहा। इनके विपक्षी उम्मीदवार कैप्टन लक्ष्मी सहगल थे।

डॉ. कलाम भारत के मिसाईल मेन के नाम से जाने जाते हैं इन्होंने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) में एक वैज्ञानिक और विज्ञान प्रशासक रूप में सेवाएँ दी थी।

भारत के 1974 एवं 1998 के परमाणु परीक्षण में डॉ. कलाम का महत्वपूर्ण योगदान रहा था।

 

1997 में इन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। डॉ. कलाम देश विदेश के बहुत से पुरस्कारों से सम्मानित हैं।

bharat ke rashtrapati, indian president, rashtrapati list, bharat ke rashtrapati kaun hai,  भारतीय राष्ट्रपति, भारत के राष्ट्रपति, राष्ट्रपति सूची, भारत के राष्ट्रपति कौन हैं,

श्रीमती प्रतिभा सिंह पाटिल (Mrs. Pratibha Singh Patil)

12 bharat ke rashtrapati Mrs. Pratibha Singh Patil

image source – thefamouspeople.com

श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल भारत की पहली महिला राष्ट्रपति हैं।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2007 से 25 जुलाई 2012 तक रहा। राष्ट्रपति बनने से पूर्व वह राजस्थान की राज्यपाल (8 नवंबर, 2004 से 21 जून, 2007 तक) रही

 

1962-85 के दौरान वह पांच बार महाराष्ट्र की विधानसभा सदस्य रही। 1962 में, 27 वर्ष की आयु में, वह जलगाँव निर्वाचन क्षेत्र के लिए महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुनी गयी। 1991 में अमरावती से लोकसभा के लिए चुनी गई।

 

श्रीमती प्रतिभा पाटिल सुखोई विमान उड़ाने वाली पहली महिला राष्ट्रपति हैं। राष्ट्रपति चुनाव में इनके प्रतिद्वंद्वी भैरोसिंह शेखावत थे।

 

 

 

प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee)

13 bharat ke rashtrapati Pranab Mukherjee

image source – ndtv.com

प्रणव मुखर्जी भारत के 13 वे राष्ट्रपति हैं। जो अपने प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार पी. ए. संगमा को हराकर राष्ट्रपति बने।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2012 से  अब तक रहा ।

मुखर्जी को 1997 सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार एवं 2008 में भारत का दूसरा सबसे बड़ा असैनिक सम्मान पद्म विभूषण प्रदान किया गया था।

 

डॉ. प्रणब मुखर्जी भारत के 13 वें राष्ट्रपति थे। 2009 से 2012 तक मुखर्जी केंद्रीय वित्त मंत्री थे।

वे संसद के राज्य सभा में 1969 से पांच बार और 2004 से दो बार लोकसभा के लिए चुने गए।

 

इन्होंने अपनी पार्टी राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस बनाई,  जिसको 1989 में राजीव गांधी के प्रयासों से कांग्रेस में मिला लिया गया।

पूर्वप्रधानमंत्री पी. वी. नरसिम्हा राव ने उन्हें 1991 में योजना आयोग प्रमुख और 1995 में विदेश मंत्री नियुक्त किया।

 

राम नाथ कोविंद (Ram Nath Kovind)

14 bharat ke rashtrapati Ram Nath Kovind

image source – thehindu.com

श्री राम नाथ कोविंद भारत के 14 वें तथा दुसरे दलित राष्ट्रपति हैं।

इनका जन्म उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जिले के परुख गाँव में हुआ।

इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2017 से प्रारम्भ हुआ। इन्होंने श्रीमती मीरा कुमार के विरुद्ध जीत प्राप्त की।

 

उन्होंने 16 अगस्त, 2015 से 20 जून, 2017 तक बिहार के 36 वें राज्यपाल के रूप में कार्य किया और अप्रैल 1994 से मार्च 2006 तक राज्य सभा के सदस्य रहे।

keywords

  • bharat ke rashtrapati,
  • indian president,
  • rashtrapati list,
  • bharat ke rashtrapati kaun hai,
  • भारतीय राष्ट्रपति,
  • भारत के राष्ट्रपति,
  • राष्ट्रपति सूची,
  • भारत के राष्ट्रपति कौन हैं,

इन्हें भी पढ़े

बाहरी कड़ियाँ

Our YouTube Channel – Aliscience

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Aliscience
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart