डाइनोफ्लेजीलेट्स

Dinoflagellates in Hindi, डाइनोफ्लेजीलेट्स, Kingdom Protista

डाइनोफ्लेजीलेट्स (Dinoflagellates)

डाइनोफ्लेजीलेट्स प्रकाशसंश्लेषी प्रोटिस्ट होते हैं, ये डाइनोफाइसी (पाइरोफाइट) वर्ग से सम्बन्धित है। ये मुख्यतया समुद्री, तथा कुछ लवण जलीय होते हैं।

ये कोशिका में उपस्थित मुख्य वर्णकों की निर्भरता के आधार पर लाल, पीले, हरे, भूरे या नीले दिखाई देते हैं।

कभी-कभी यह समुंदर में बहुत तेजी से वृद्धि करते हैं। जिसके कारण समुंदर के पानी का रंग बदल जाता है। जैसे गोनियालेक्स के कारण पानी लाल रंग का दिखाई देने लगता है जिसे लाल तरंग या रेड टाइड कहते हैं।

यह बड़ी संख्या में आविष उत्पन्न करते हैं जिनके कारण समुद्री जीव और मछलियों की मृत्यु हो जाती है।इनमें जैव संदीप्ति (bioluminescence) उत्पन्न करने की क्षमता होती है अर्थात यह जुगनू की तरह चमकते हैं।

डाइनोफ्लेजीलेट्स के सामान्य लक्षण (Common characteristics of dinoflagellates)

  1. ये एककोशिकीय तथा गमनशील (Motile) होते है।
  2. इनका शरीर कठोर आवरण कोशिका भित्ति (cell wall) द्वारा ढका होता है, जिसे थीका (Theca) या लोरिका (lorica) कहते हैं, जो सेल्युलॉज तथा पेक्टिन की दो या अनेक आर्टिक्युलेट या स्क्लप्चर पट्टिका का बना होता है। ये पट्टिकाएँ सेल्युलॉज तथा पेक्टिन की बनी होती है। अतः इन्हे कवच युक्त डाइनोफ्लेजीलेट्स (armoured dinoflagellates) भी कहते हैं।
  3. थीका में प्रायः दो खाँचे होती है, जो लम्बवत् (longitudinal) होती है जो सल्कस तथा अनुप्रस्थ (transverse) होती है जो सिन्गुलम या एलुलस कहलाती है।
  4. इनमें दो कशाभिका होती है। जो हेटेरोकोन्ट यानि भिन्न प्रकार को होती हैं। एक लम्बवत् तथा दूसरा अनुप्रस्थ होता है। कशाभिक थीका या लोरिका में छिद्र द्वारा गुजरते हैं, तथा खाँचों में रहते हैं।
  5. अनुप्रस्थ कशाभिक वलयित खाँच में रहता है तथा रिबन समान होता है। लम्बवत् कशाभिक लम्बवत् खाँच में रहता है तथा संकीर्ण, चिकना, पश्चस्थ निर्देशित होता है,
  6. दोनों कशाभिक एक-दूसर के समकोण पर होते हैं, तथा घुमावदार (स्पिनिंग) गति उत्पन्न करते हैं। इसलिए ये प्रोटिस्ट ‘whirling whips’ भी कहलाते हैं।
  7. केन्द्रक प्रायः आकार में बड़ा होता है, तथा इन्टरफेज अवस्था में गुणसूत्र संघनित होते हैं, गुणसूत्रों में हिस्टोन नहीं होती। केन्द्रकीय आवरण तथा केन्द्रिका कोशिका विभाजन के दौरान उपस्थित रहते हैं। इस प्रकार का संगठन मीजोकेरियोन कहलाता है।
  8. इसमें असंकुचनशील रिक्तिका प्युसुल कहलाती है। जो कशाभिकीय आधार के निकट उपस्थित होती हे। इसमें एक या अधिक रिक्तिकाएँ होती है, जो प्लावन या रसायन नियमन में भाग लेती है।
  9. ये स्वपोषी या प्रकाश संश्लेषी (सीरेटीयम) होते हैं, तथा कुछ सेप्रोबिक (मृतोपजीवी) या परजीवी होते हैं। अधिकांश जातियों में पर्णहरित A, पर्णहरित B, b- केरोटीन, जैन्थोफिल (उदा.-पेरिडिनिन) युक्त भूरे, हरे या पीले क्रोमेटोफोर होते हैं।
  10. संचित भोजन कार्बोहाइड्रेट तथा तेल होता है।
  11. कुछ डाइनोफ्लेजीलेट्स में सीलेन्ट्रेट्स जैसे ट्राइकोसिस्ट तथा निडोब्लास्ट होते हैं।

डाइनोफ्लेजीलेट्स में जनन (Reproduction in Dinoflagellates in Hindi)

  1. इसमें प्रजनन प्रायः अलैंगिक होता है, तथा कोशिका विभाजन द्वारा होता है।
  2. कुछ डाइनोफ्लेजीलेट्स से समयुग्मकी तथा विषमयुग्मकी (Isogamous and anisogamous) लैंगिक प्रजनन पाया जाता है गया है। उदा. सीरेटियम।
  3. जीवन चक्र में युग्मनजी अर्द्धसूत्रण (सीरेटियम, जिम्नोडिनियम) सम्मिलित है। युग्मकी अर्द्धसूत्रण नाॅक्टिल्युका में होता है।

इन्हें भी पढ़े


बाहरी कड़ियाँ

  1. https://www.aliseotools.com/article-rewriter
  2. NEET 10 Practice Sets (Hindi Medium) 2021

लेक्चर विडियो

Dinoflagellates in Hindi, डाइनोफ्लेजीलेट्स, Kingdom Protista


एफिलिएट लिंक

यह प्रोडक्ट अमेजन का एफिलिएट लिंक है। मतलब की आप इस लिंक से कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं तो इसका बहुत थोड़ा भाग हमें मिलता है परंतु आपसे इसका कोई अधिक चार्ज नहीं लिया जाता। अगर आप अमेज़न से कोई प्रोडक्ट लेना चाहते हैं तो वेबसाइट के लिंक से जरूर दें धन्यवाद


यदि आपको यह लेख पसंद आया है और आपके लिए फायदेमंद है तो आप से अनुरोध है कि आप इसको फेसबुक, व्हाट्सएप, टि्वटर. टेलीग्राम अथवा इंस्टाग्राम पर शेयर करें और हमारी सहायता करें हम आपके आभारी रहेंगे

Dinoflagellates in Hindi, डाइनोफ्लेजीलेट्स, Kingdom Protista

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Aliscience
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart