बीकानेर से सम्बंधित जनरल नॉलेज

बीकानेर से सम्बंधित जनरल नॉलेज (General Knowledge About Bikaner)
Bikaner की स्थापना जोधपुर के राजा राव जोधा के बेटे राव बीका ने 1465 ईस्वी में की थी। बीकानेर को जंगल देश, ऊन का घर, राती घाटी तथा बिकाणा, ऊँटों का देश आदि नाम से जाना जाता है।

बीकानेर के प्रमुख स्थल (major places of Bikaner)

कोलायत

यह महर्षि कपिल की तपोभूमि है। महर्षि कपिल को सांख्य दर्शन का प्रणेता कहते हैं।
यहां पर कोलायत झील स्थित है। कोलायत में कार्तिक पूर्णिमा को विशाल मेला लगता है।

मुकाम

विश्नोई समाज के संस्थापक जाम्भोजी की तपोभूमि मुकाम कहलाती है। यह बीकानेर के नोखा कस्बे से 15 किलोमीटर दूर स्थित एक गांव है। यहां पर फाल्गुन माह में विशाल मेला लगता है।

सोथी

बीकानेर के इस स्थान पर हड़प्पा युगीन अवशेष प्राप्त हुए हैं। यहां पर अमलानंद घोष के नेतृत्व में खुदाई का कार्य किया गया।
सोथी को कालीबंगा प्रथम भी कहा जाता है।

देशनोक

यहां पर करणी माता का विशाल मंदिर स्थित है। जिसे चूहों का मंदिर भी कहा जाता है। इस मंदिर में चैत्र माह के नवरात्रि तथा आश्विन माह में विशाल मेला लगता है।

गजनेर अभयारण्य

बीकानेर जिले में लगभग 16 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में यह अभ्यारण फैला हुआ है। यहां पर जंगली सूअर तथा बटबड़ पक्षी विशेष प्रसिद्ध है। बटबड़ पक्षी को रेत का तीतर भी कहा जाता है।

गंगा गोल्डन जुबली म्यूजियम

यह एक संग्रहालय है जो बीकानेर में स्थित है। इसका उद्घाटन 5 नवंबर 1937 को गवर्नर जनरल लॉर्ड लिनलिथगो ने किया था।

रानेरी

बीकानेर के इस गांव में देश का प्रथम लिग्नाइट आधारित बिजली घर स्थापित किया गया है। जो मरुधर पावर प्राइवेट लिमिटेड की सहायता से स्थापित किया गया है।

बरसिंगसर

इस स्थान पर 27 अक्टूबर 2006 से लिग्नाइट आधारित बिजली घर स्थापित किया गया है। जो नेवेली लिग्नाइट कॉरपोरेशन के द्वारा स्थापित किया गया है।

डाडाथोरा

यहां पर खुदाई के दौरान लघु पाषाण काल की पुरातात्विक वस्तुएं प्राप्त हुई है। जो ऐतिहासिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है।

झज्झर

बीकानेर के कस्बे में निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी जोजोबा (होहोबा) प्लांटेशन परियोजना प्रारंभ की गई है।

 

बीकानेर के प्रमुख धार्मिक स्थल (major religious places of Bikaner)

भांडासर जैन मंदिर

इस जैन मंदिर की स्थापना शाह भांडा ने की थी। यह जैन धर्म के चौथे तीर्थंकर भगवान सुमति नाथ जी का मंदिर है।

यह सैकड़ों मन देसी घी की नींव पर बना मंदिर है। यहां पर सुमति नाथ जी की संगमरमर से बनी श्वेत आदम कद मूर्ति स्थापित है। इसे त्रिलोक दीपक प्रासाद मंदिर भी कहा जाता है।

चूहों का मंदिर

यह देशनोक में स्थित करणी माता का मंदिर है।

हेरम्ब गणपति

यहां पर 33 करोड़ देवता मंदिर है। इसमें गणेश जी चूहे पर सवार ना होकर शेर पर सवार है।

भंडेश्वर-संडेश्वर मंदिर

यह जैन समाज का मंदिर है‌।

भेरुजी का मंदिर

यह बीकानेर के कोडमदेसर नामक स्थल पर स्थित है।

देवी कुंड

कल्याण सागर के पास राजघराने का निजी श्मशान घाट देवी कुंड नाम से जाना जाता है।

 

बीकानेर से सम्बंधित जनरल नॉलेज (General Knowledge About Bikaner)

बीकानेर से सम्बंधित जनरल नॉलेज (General Knowledge About Bikaner)

 

बीकानेर के प्रमुख भवन एवं किले

जूनागढ़ का किला

इसे बीकानेर का किला भी कहा जाता है। यह लाल पत्थरों से बना हुआ है। इसका निर्माण राजा राय सिंह ने करवाया था। परंतु इसकी नींव राव बीकाजी ने रखी थी।

इसमें करण पोल व सूरजपोल नामक दो द्वार है। इसके दरवाजे के दोनों तरफ जयमल और पत्ता की गजारुड मूर्तियां स्थापित है। जो चित्तौड़गढ़ में वीरगति प्राप्त हुए थे।

रामपुरिया हवेली

यह हवेली हिंदू मुस्लिम तथा यूरोपीय कला का समन्वय के लिए प्रसिद्ध है।

लालगढ़ महल

इस महल का निर्माण गंगा सिंह ने अपने पिता लाल सिंह की स्मृति में करवाया था। वर्तमान में इस महल में अनूप संस्कृत पुस्तकालय तथा सादुल संग्रहालय स्थित है।

गजनेर महल

राजा गज सिंह के द्वारा इसका निर्माण करवाया गया था। यह तीतरों के लिए प्रसिद्ध है। राजा गज सिंह ने अकाल के दौरान अकाल से बचने के लिए गजनेर झील व गजनेर महल का निर्माण करवाया था।

 

बीकानेर की प्रमुख झीलें

कोलायत झील

यह महर्षि कपिल की तपोभूमि है।

लूणकरणसर झील

यह बीकानेर से लगभग 80 किलोमीटर दूर स्थित है्।

गजनेर झील

यह गजनेर महल के पास स्थित है। इसका निर्माण राजा गज सिंह ने करवाया था। यह पानी का शुद्ध दर्पण नाम से प्रसिद्ध है।

  • अनूपसागर झील
  • सूरसागर झील

 

राजस्थान राज्य अभिलेखागार संस्थान

इसकी स्थापना सन 1955 ईस्वी में की गई थी। इस लेखाकार में अभिलेखागार में 21 देशी रियासतों का लगभग 4 सदियों का रिकॉर्ड सुरक्षित है।

उस्ताद

भित्ति चित्र करने वाले चित्रकारों को बीकानेर में उस्ताद कहा जाता है

बीकानेर की विधानसभाएं

Bikaner में सात विधानसभाएं हैं, जो निम्न है –

  1. बीकानेर पश्चिम
  2. बीकानेर पुर्व
  3. कोलायत
  4. डूंगरगढ़
  5. लूणकरणसर
  6. नोखा
  7. खाजूवाला

लिफ्ट नहर परियोजना

बीकानेर जिले को जल प्राप्ति के लिए इंदिरा गांधी नहर परियोजना की चार लिफ्ट नहर ए बनाई गई है जो बीकानेर में स्थित है-

  1. वीर तेजाजी लिफ्ट नहर (बांगड़सर)
  2. पन्नालाल बारूपाल लिफ्ट नहर (गजनेर)
  3. करणीसिंह लिफ्ट नहर (कोलायत)
  4. कंवर सेन लिफ्ट नहर (लूणकरणसर)

इन्हें भी पढ़ें

बाहरी कड़ियाँ

 

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Aliscience
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart