केन्द्रक और केन्द्रिका Hey Biology lovers आज के ब्लॉग का शीर्षक है केन्द्रक और केन्द्रिका , केन्द्रक दोहरी झिल्ली से ढका हुआ कोशिकांग है। (क्या आप दोहरी झिल्ली से ढका हुआ कोशिकांगो का नाम बता सकते है? नीचे कमेंट में उतर दे)…

read more

Hello Biology Lovers कोशिका चक्र हमारे ब्लॉग का शीर्षक कोशिका चक्र एवं चेकपॉइंट द्वारा इसका नियमन (Cell Cycle in Hindi) है। कोशिका चक्र  एक आवश्यक जैविक प्रक्रिया है जिसके द्वारा कोशिकाएँ विभाजित होकर खुद को द्विगुणित करती इसे कोशिका चक्र कहा जाता हैं।…

read more

कोशिका विभाजनः-  कोशिका विभाजन वह क्रिया हैं,  जिसके द्वारा जनक कोशिका(Parent cell) से पुत्री कोशिकाओं (Daughter cells) का निर्माण होता है, उसे कोशिका विभाजन (Cell Division) कहते हैं। सभी कोशिकाओं में विभाजन की प्रक्रिया पाई जाती हैं परन्तु जन्तुओं की परिपक्व लाल…

read more

Hello Biology Lovers, आज के हमारे ब्लॉग का शीर्षक है – सुक्ष्मकाय- परऑक्सिसोम, ग्लाइऑक्सीसॉम्स एव स्फेरोसोम (Microbodies- peroxisomes, Glyoxisome and spherosome) सुक्ष्मकाय (Microbodies) ये पादप कोशिका में एकल झिल्ली वाले छोटे कोशिकांग हैं। इनका निर्माण Endoplasmic Reticulum द्वारा होता हैं। इनको Rhodin…

read more

कोशिका झिल्ली एक चयनात्मक अर्ध पारगम्य सजीव झिल्ली है जो प्रत्येक जीवीत कोशिका के जीव द्रव्य(प्रोटोप्लाज्म) को घेर कर रखती है। कोशिका झिल्ली का निर्माण तीन परतों से मिलकर होता है, इसमें से बाहरी एवं भीतरी परतें प्रोटीन द्वारा तथा मध्य वाली…

read more

राइबोसोम का सामान्य परिचय (Introduction of Ribosome): – राइबोसोम सभी कोशिकाओं (सार्वभौमिक कोशिकांग) में पाया जाता है। जॉर्ज Palade द्वारा सबसे पहले देखा गया। यह परिपक्व आरबीसी में अनुपस्थित होता हैं। यह आकार में सबसे छोटा कोशिकांग है यह आकार में 15-20…

read more

पादप कोशिका भित्ति परिचय- प्रोकैरियोटिक और पादप कोशिका दृढ़ कोशिका भित्ति से घिरे होते हैं। पेपर, वस्त्र,रेशे (कपास, सन, हेम्प), लकड़ी का कोयला, लकड़ी, और अन्य लकड़ी के उत्पादों कोशिका भित्ति से प्राप्त होते हैं। कोशिका भित्ति की संरचना: – कोशिका भित्ति…

read more

Hello Biology Lovers, आज के हमारे ब्लॉग का शीर्षक है-  कोशिका (Cell) का सामान्य परिचय संरचना तथा प्रकार Cytology (कोशिका विज्ञान) जीव विज्ञान की इस शाखा में  कोशिकाओ की संरचना और कार्य का अध्ययन किया जाता है । यह शब्द हर्टविग द्वारा…

read more

जीवद्रव्य की प्रकृति जीवद्रव्य की प्रकृति के बारे में निम्न मत दिये गये- कुपिका सिद्धांत (ALVEOLAR THEORY):  यह बुचली(BUTCHLLI )द्वारा सुझाई गई थी। उनके अनुसार, जीवद्रव्य एक पायस है जिसमें कई निलंबित बूंदें या एल्वियोली या कुपिका  होते हैं, जो हर जगह…

read more