प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस

इस लेख में हम प्रकाश का अपवर्तन Refraction of light in hindi तथा लेंस के प्रकार और लेंस के द्वारा बनाने वाले प्रतिबिम्बों का अध्ययन करेगे ।

प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस

प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light)

जब प्रकाश की किरण  एक माध्यम से दुसरे माध्यम में प्रवेश करती है तो प्रकाश किरण का मार्ग से विचलित होना प्रकाश का अपवर्तन कहलाता है। जब प्रकाश किरण विरल माध्यम से सघन माध्यम में प्रवेश करती है। तो अभिलम्ब की ओर झुक जाती है। जब प्रकाश किरण सघन माध्यम से विरल माध्यम में जाती है तो अभिलम्ब से दुर हट जाती है। प्रकाश का वेग बदलने के कारण अपवर्तन होता है। अपवर्तन के कारण  प्रकाश का तरंग दैध्र्य बदलता हैं। प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस

लेंस व उसके प्रकार (Lens and their types)

लेंस (Lens)एक पारदर्शी माध्यम है  जिसमें दो वक्रित (गोलाई) अथवा एक वक्रित एवं एक समतल सतह होती है। लेंस मुख्यतः दो प्रकार के होते है। (lenses glasses) 1. उत्तल लेंस (Convex lens)  2. अवतल लेंस (Concave lens)

उत्तल लेंस (Convex lens)

इस प्रकार के लेंस के किनारे पतले एवं मध्य भाग मोटा होता हैं। उत्तल लैंस प्रकाश को अभिसरित (सिकोड़ता)  है अतः इसे अभिसारी लेंस भी कहते है।
wikimedia lenses glasses प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light) तथा लेंस

उत्तल लेंस के प्रकार

1. उभयोत्तल उत्तल लेंस- दोनों सतहों पर वक्रित (चित्र -1) 2. समतलोत्तल उत्तल लेंस- एक सतह पर वक्रित तथा एक पर समतल (चित्र -2) 3.अवत्तलोत्तल उत्तल लेंस – एक सतह पर वक्रित तथा एक पर अन्दर धंसा (चित्र -3)

https://www.aliscience.in/reflection-of-light-in-hindi/

लेंस द्वारा प्रतिबिम्ब निर्माण

भिन्न स्थितियों में उत्तल लेंस द्वारा प्रतिबिम्ब निर्माण

जब वस्तु अनन्त पर स्थित हो-
प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस
  • प्रतिबिम्ब मुख्य फोकस F2 पर बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब से बहुत छोटा व बिन्दु आकृति का बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब वास्तविक और उल्टा बनता है।
जब वस्तु वक्रता केन्द्र से दूर स्थित हो/ फोकस दूरी के दुगुने से अधिक दूरी पर स्थित हो –
प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस
  • प्रतिबिम्ब वक्रता केन्द्र (2F2) व  फोकस मुख्य F2 मध्य बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब से छोटा बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब वास्तविक और उल्टा बनता है।
जब वस्तु वक्रता केन्द्र पर स्थित हो/ फोकस दूरी से दुगुनी दूरी पर स्थित हो-
प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस
  • प्रतिबिम्ब वक्रता केन्द्र (2F2) पर बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब के आकार का बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब वास्तविक और उल्टा बनता है।
जब वस्तु वक्रता केन्द्र (2F1) व फोकस मुख्य F1 मध्य स्थित हो/ फोकस दूरी से अधिक दूरी पर स्थित हो/ फोकस दूरी के दुगुने से कम दूरी पर स्थित हो-
  • प्रतिबिम्ब 2F2  से अधिक दूरी पर बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब से बड़ा बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब वास्तविक और उल्टा बनता है।
जब वस्तु मुख्य फोकस (F1) पर स्थित हो-
  • प्रतिबिम्ब अनन्त पर बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब से बहुत बड़ा बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब वास्तविक और उल्टा बनता है।
जब वस्तु मुख्य फोकस (F1)  व प्रकाशीय केन्द्र (O) के मध्य स्थित हो-
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब की दिशा में बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब बिम्ब से बड़ा बनता हैं।
  • प्रतिबिम्ब आभासी और सीधा बनता है

लेंस की क्षमता (Power of lens) 

किसी लैंस द्वारा प्रकाश किरणों को फैलाने या सिकोड़ने की क्षमता को लैंस क्षमता कहलाती है। लेंस की क्षमता का मात्रक  डाॅयप्टर (D) होता है। P = 1/f लेंस द्वारा आपतित प्रकाश किरण को मोडा जाता है। आपतित किरण के मार्ग में उत्पन्न विचलन या मोड़ या विस्थापन ही उस लेंस की क्षमता कहलाता है। किसी लेंस द्वारा प्रकाश किरण को जितना ज्यादा विचलित किया जाता है उस लेंस की क्षमता उतनी ही अधिक होती है और यदि लेन्स कम विचलन या विस्थापन उत्पन्न करता है तो उस लेंस की क्षमता कम मानी जाती है। माना की किसी अवतल लेंस की फोकस दुरी 25cm है, तो – f = 25cm = 0.25m p = 1/f = 1/0.25 = 100/25 =  -4D
https://youtu.be/fT2OdYJkmbs
यदि आपको  प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस लेख पसंद आया हो और आप चाहते है की हम ऐसे ओर भी पोस्ट हिंदी में डाले तो आप इस पोस्ट को अपने facebook पर share करना ना भूले। आपका एक share हमारे लिए तथा अन्य विद्यार्थियों के लिए फायदेमंद हो सकता है। प्रकाश का अपवर्तन (Refraction of light in hindi) तथा लेंस

This Post Has One Comment

Leave a Reply

×
×

Cart