दृष्टि दोष

दृष्टि दोष (Eye Disorders)

 

जेरोफथेल्मिया (Xerophthalmia)

विटामिन ए की कमी के कारण को नेत्र श्लेष्मा (Conjunctiva) और कॉर्निया में सूखापन आ जाता है।

कंजेक्टिवाइटिस (Conjunctivitis)

सूक्ष्मजीवों के कारण आंख के कंजेक्टिवा अथार्त नेत्र श्लेष्मा (Conjunctiva) में सूजन आ जाती है। इसे सामान्यतः आंख आना कहते हैं।

 

वर्णांधता (Color Blindness)

यह एक अनुवांशिक रोग है। इसमें रोगी में शंकु कोशिकाओं की कमी हो जाती है। जिसके कारण वह लाल तथा हरे रंग में अंतर नहीं कर पाता।

 

निकट दृष्टि दोष (Myopia)

इस रोग में व्यक्ति को दूर की पास की वस्तुएं तो स्पष्ट दिखाई देती है। लेकिन दूरी पर रखी वस्तुएं स्पष्ट दिखाई नहीं देती।

इसका कारण अभिनेत्र लेंस का मोटा हो जाना अथवा नेत्र गोलक का लंबा हो जाना है।

इस प्रकार के दृष्टि दोष में प्रतिबिंब रेटीना पर न बनकर उसके बाहर की ओर बनता है।

इसके उपचार के लिए अवतल लेंस (Concave Lens) का उपयोग किया जाता है।


दृष्टि दोष आँखों के रोग (Eye Diseases Information )


दूर दृष्टि दोष (Hypermetropia)

इस प्रकार के दृष्टि दोष में व्यक्ति को दूर की वस्तुएं तो स्पष्ट दिखाई देती है। लेकिन पास रखी वस्तु स्पष्ट दिखाई नहीं देती।

इसका कारण अभिनेत्र लेंस का पतला हो जाना अथवा नेत्र गोलक का छोटा हो जाना है।

इस दोष में प्रतिबिंब रेटिना पर न बन कर उससे पहले ही बन जाता है।

इसके उपचार के लिए उत्तल लेंस का उपयोग किया जाता है।

 

जरा दृष्टि दोष (Presbyopia)


इस प्रकार के दृष्टि दोष में  ना तो दूर की वस्तु स्पष्ट दिखाई देती है और ना ही निकट की वस्तु स्पष्ट दिखाई देती है।
उम्र बढ़ने के साथ-साथ अभिनेत्र लेंस का लचीलापन कम हो जाता है। जिससे लेन्स की समायोजन क्षमता कम हो जाती है।
इसके उपचार  के लिए द्विफोकसीलेन्स (Bifocal lens – उत्तल  + अवतल) का उपयोग किया जाता है।

मोतियाबिंद (Cataract)

सामान्यतः उम्र बढ़ने के साथ-साथ अभिनेत्र लेंस दूधिया तथा अपारदर्शी हो जाता है। जिससे नेत्र में प्रवेश करने वाले प्रकाश का परावर्तन होने लगता है। और व्यक्ति को दिखाई नहीं देता।

इसके उपचार के लिए अभिनेत्र लेंस को निकाल कर उसकी जगह पर इंट्राऑकुलर लेंस लगाए जाते हैं।

दृष्टि वेश्मय दोष (Astigmatism)

इस प्रकार के दृष्टि दोष में कॉर्निया की आकृति अनियमित हो जाती है। जिसके कारण प्रतिबिंब स्पष्ट नहीं बनता।

व्यक्ति को समान दूरी पर रखी क्षैतिज (Horizontal) तथा उर्ध्व (Vertical) वस्तुएं स्पष्ट दिखाई नहीं देती।

इसके उपचार के लिए बेलनाकार लेंस का उपयोग किया जाता है।


दृष्टि दोष आँखों के रोग (Eye Diseases Information ) दृष्टि दोष आँखों के रोग (Eye Diseases Information )

Buy New Mobile Phones

PCBM


If you like this post then please share is on Facebook and Whatsapp.


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *