जगत प्रोटिस्टा

Kingdom Protista in Hindi, जगत प्रोटिस्टा, प्रोटिस्टा जगत के प्रमुख लक्षण प्रोटिस्टा जगत का वर्गीकरण


जगत प्रोटिस्टा (Kingdom Protista)

सभी एककोशिकीय यूकेरियोट्स (unicellular eukaryotes) होते है। पोषण की विधि के आधार पर व्हिटेकर ने जगत प्रोटिस्टा में सम्मिलित किया।

प्रोटिस्ट शब्द अर्नेस्ट हेकल (Ernest Haeckel) द्वारा दिया गया। यह जगत मोनेरा और प्लांटी, कवक तथा एनिमेलिया के बीच कड़ी बनाता है।

हम कह सकते है कि प्रोटिस्टेन्स सभी बहुकोशिकीय यूकेरियोट्स के जीवाश्म (Fossil) होते हैं।


प्रोटिस्टा के सामान्य अभिलक्षण (General Characteristics of Protista)

1. ये एककोशिकीय यूकेरियोटिक जीव होते हैं। कुछ कोलोनियल होते हैं।

2. प्रायः जलीय जीव होते हैं।

3. कोशिका संरचना यूकेरियोटिक प्रकार की होती है, इनकी कोशिका में सभी प्रकार के झिल्ली आबंध कोशिकांग (membrane bounded organelles) जैसे केंद्रक, माइटोकॉन्ड्रिया, हरित लवक, एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम, गोलजी बॉडी, लाइसोसोम, रिक्तिका होते हैं, व 80S प्रकार के राइबोसोम होते हैं।

4. कशाभिका तथा पक्ष्माभिका (cilia and flagella) में सूक्ष्मनलिका संगठन का 9+2 पैटर्न होता है।

5. गमन (Locomotion) कूटपादों, कशाभिका या पक्ष्माभिका (Pseudopodia, cilia and flagella) द्वारा होता है। किन्तु पक्ष्माभिका द्वारा होने वाला गमन तीव्र होता है।

6. पोषण की विधि प्रकाशसंश्लेषी (होलोफिटिक), होलोजोइक (इनजेस्टिव), सेप्रोबिक (मृतोपजीवी) या परजीवी (अधिशोषी) प्रकार का होता है। कुछ में मिक्सोट्रोफिक पोषण (प्रकाशसंश्लेषी या सेप्रोबिक) होता है, जैसे यूग्लीना।

7. प्रजनन अलैंगिक तथा लैंगिक प्रकार का होता है। जीवन चक्र में दो प्रकार के अर्द्धसूत्रण दर्शाते है –

  • युग्मनजी अर्द्धसूत्रण
  • युग्मकी अर्द्धसूत्रण

8. ये अपघटनकारी, प्रकाशसंश्लेषी या परजीवी होते हैं। परजीवी प्रोटिस्ट रोग उत्पन्न कर सकते हैं। जैसै पेचिश, मलेरिया, अनिद्रारोग आदि करते हैं।

Kingdom Protista in Hindi

प्रोटिस्टा को पोषण के आधार पर तीन भागों में विभक्त कर सकते हैं-

  • प्रकाश संश्लेषी प्रोटिस्टा – क्राइसोफाइट्स, डाइनोफ्लेजीलेट्स, यूग्लिनोइड
  • अपघटनकारी प्रोटिस्टा – अवपंक कवक
  • विषमपोषी प्रोटिस्टा – प्रोटोजोआ

जगत प्रोटिस्टा का वर्गीकरण (Classification of the Kingdom Protista)

प्रोटिस्टा को निम्न भागों में विभक्त करते है-

  1. क्राइसोफाइट्स (chrysophytes) – यह एक कोशिकीय समुद्री जीव है इनके बारे में अधिक जानने के लिए इस लेख को पढ़िए – https://aliscience.in/chrysophytes-meaning-in-hindi/
  2. डाइनोफ्लेजीलेट्स (dinoflagellates) – यह एक कोशिकीय समुद्री जीव है  इनमें दो फ्लेजिला पाई जाती है इनके बारे में अधिक जानने के लिए इस लेख को पढ़िए – https://aliscience.in/dinoflagellates-in-hindi/
  3. यूग्लिनोइड (Euglenoid) – यह पादप तथा जनता के बीच की योजक कड़ी होते हैं उनके बारे में अधिक जानकारी के लिए इस लेख को पढ़िए – https://aliscience.in/euglenoid-in-hindi/
  4. अवपंक कवक (slime molds) – यह सड़-गली पत्तियों लकड़ियों तथा नम स्थानों पर पाए जाते हैं –https://aliscience.in/slime-moulds-in-hindi/
  5. प्रोटोजोआ (protozoa)

इन्हें भी पढ़े


बाहरी कड़ियाँ


लेक्चर विडियो

Kingdom Protista in Hindi, जगत प्रोटिस्टा, प्रोटिस्टा जगत के प्रमुख लक्षण प्रोटिस्टा जगत का वर्गीकरण


यदि आपको यह लेख पसंद आया है और आपके लिए फायदेमंद है तो आप से अनुरोध है कि आप इसको फेसबुक, व्हाट्सएप, टि्वटर. टेलीग्राम अथवा इंस्टाग्राम पर शेयर करें और हमारी सहायता करें हम आपके आभारी रहेंगे

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Aliscience
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart