कार्बन के हैलाइड एवं सल्फाइड

कार्बन के हैलाइड एवं सल्फाइड

कार्बन के हैलाइड (Halide of Carbon)

इनमें कार्बन के साथ हैलोजेन तत्व जुड़े होते हैं। कार्बन के हैलाइड रासायनिक दृष्टि से अक्रियाशील ज्वलनशील गैस अथवा द्रव होतें हैं ।

 

(1)सरल कार्बन हैलाइड (Simple carbon halide)

इस प्रकार के सरल कार्बन हैलाइड में केवल एक ही प्रकार का हैलोजेन तत्व कार्बन के साथ जुड़ा होता है। इन्हें टेट्रा हैलो व्युत्पन्न (Tetra Halo Derivative) भी कहा जाता है। जैसे – कार्बन टेट्राफ्लुओराइट (CF4), कार्बन टेट्रा क्लोराइड (CCl4) कार्बन टेट्राब्रोमाइड (CBr4) आदि ।

(2) मिश्रित कार्बन हैलाइड (Mixed Carbon Halide)

इनमें कार्बन के साथ दो भिन्न हैलोजेन तत्व जुड़े होते हैं। जैसे फ्रीऑन (freons)

फ्रीऑन (freons)

यदि कार्बन के साथ फ्लुओरीन तथा क्लोरीन जुड़े हो तो इन्हें फ्रीऑन (Freons) कहा जाता है।  इन्हें क्लोरो फ्लुओरो व्युत्पन्न (Chloro fluoro derivative) भी कहते हैं जैसे

  • फ्रीऑन-11-(CFCl3)
  • फ्रीऑन-12 (CF2Cl2)
  • फ्रीऑन-112(C2F2Cl4)
  • फ्रीऑन-113(C2F3Cl3)

फ्रीऑन का नामकरण (Nomenclature of Freon)

फ्रीऑन मुख्यतः तीन तत्व C, H तथा F होते है। इनके नामकरण के लिए C की संख्याँ में से एक घटाते (-1), H की संख्याँ में एक जोड़ते (+1) तथा F की संख्याँ को वैसे ही लिखते है। जैसे-

CFCl3

  1. यहाँ C की संख्याँ 1 है अतः 1-1 = 0
  2. H की संख्याँ 0 है अतः 0+1 = 1
  3. F की संख्याँ 1 है अतः 1
  4. Cl की संख्याँ की गिनती नहीं करते।

इस प्रकार इसका नाम फ्रीऑन 11 हुआ।

C2H2F2Cl2

  1. यहाँ C की संख्याँ 2 है अतः 2-1 = 1
  2. H की संख्याँ 2 है अतः 2+1 = 3
  3. F की संख्याँ 2 है अतः 2
  4. Cl की संख्याँ की गिनती नहीं करते।

इस प्रकार इसका नाम फ्रीऑन 132 हुआ।

 

नाम से फ़ॉर्मूला बनाना (Formula by Name)

फ्रीऑन के नामकरण के लिए उपरोक्त विधि का उल्टा करते है। फ्रीऑन की संख्याँ को तीन अंको में विभाजित करके। प्रथम संख्याँ (C की) में से एक जोड़ते (+1), दूसरी संख्याँ (H की) में एक घटाते (-1) तथा तीसरी संख्याँ (F की) को वैसे ही लिखते है। कार्बन की संयोजकता पूरी करने के लिए Cl जोड़ते है। जैसे

फ्रीऑन 12

इनके तीन अंक मानने पर 012

  1. 0+1 = 1 (C के लिए)
  2. 1-1 = 0 (H के लिए)
  3. 2  (F के लिए)
  4. इस प्रकार C=1 H=0 F=2 अतः CF2 चूँकि C की संयोजकता 4 होती है इसलिए 2 Cl जोड़ते है

इस प्रकार फ्रीऑन 12 का सूत्र CF2Cl2 हुआ।

यह भी पढ़े

  1. कार्बन के ऑक्साइड एवं उनकी सामान्य जानकारी
  2. कार्बन के कार्बाइड यौगिक
  3. ऑक्सीजन का सामान्य परिचय एवं प्राप्ति की विधियाँ
  4. कार्बन के भौतिक तथा रासायनिक गुण

कार्बन के हैलाइड के उपयोग (Uses of Carbon Halide)

  1. फ्रीऑन प्रशीतक (Refrigerant) के रूप में काम आता है।
  2. फ्रीऑन वायुमण्डल में जाकर ओजोन परत का अपक्षय (ozone depletion) करते हैं अत: विकसित देशों में इनके उत्पादन और उपयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबन्ध लगा दिया गया है।
  3. हवाईजहाज में एरोसोल नोदक (Aerosol propellant) के रूप में फ्रीऑन का उपयोग किया जाता है।
  4. CF4 का उपयोग निम्न ताप मापन (Low temperature measurement) के लिये प्रयुक्त थर्मामीटरों में द्रव के रूप में होता है।
  5. CCl4 का उपयोग उद्योग में तथा प्रयोगशाला में विलायक (Solvent) के रूप में होता है।
  6. आग बुझाने में (To extinguish the fire)  CCl4 का उपयोग किया जाता है।

 

कार्बन के सल्फाइड (Sulfides of Carbon)

कार्बन तथा सल्फर के संयोग से बनने वाले यौगिक कार्बन के सल्फाइड कहलाते हैं।

ये दो प्रकार के होते हैं-

  1. कार्बन सब सल्फाइड (C3S2)
  2. कार्बन डाइसल्फाइड (CS2)

 

(i) कार्बन सब सल्फाइड (C3S2)

एक बंद पात्र में जिंक (Zn) का ऐनोड (Anode) तथा कार्बन (C) का कैथोड (Cathode) लेकर कार्बन डाइसल्फाइड (CS2) की उपस्थिति में विद्युत स्पार्क उत्पन्न करने पर कार्बन सब सल्फाइड का निर्माण होता है।

उपरोक्त विधि से बने यौगिक को ठन्डा करने पर इसके पीला रंग के क्रिस्टल प्राप्त होते हैं,

इसका गलनांक 268K होता है।

कार्बन सब सल्फाइड के  वाष्प की अप्रिय गंध होती है, तथा इसकी उपस्थिति में लगातार आंसू बहते हैं अर्थात अश्रुकारक (lachrymator) है।

(ii) कार्बन डाइसल्फाइड (CS2)

जब सल्फर की वाष्प को अत्यधिक गर्म रक्त तप्त कार्बन (चारकोल)के ऊपर प्रवाहित की जाती है तो कार्बन डाइसल्फाइड (CS2) बनता है।

कार्बन डाइसल्फाइड रंगहीन, विशिष्ट गंध वाला द्रव है। इसका क्वथनांक 319K तथा गलनांक 157K है।

यह सल्फर तथा रबर के लिये विलायक (Solvent) का कार्य करता है। उसमें वसा आयोडीन और रेजिन भी विलय होते हैं।

कार्बन टेट्रा क्लोराइड तथा कृत्रिम सिल्क के निर्माण में इसका उपयोग होता है।

रजत लेपन (silver plating) में चमकाने वाले पदार्थ के रूप में इसका प्रयोग होता है।

इन्हें भी पढ़े

  1. कार्बन के ऑक्साइड एवं उनकी सामान्य जानकारी
  2. कैसे करें विदेश जाने के लिए GRE एग्जाम की तैयारी?
  3. कार्बन के कार्बाइड यौगिक

बाहरी कड़ियाँ

  1. youtube चैनल – यहाँ क्लिक करे
  2. Our other website – aliadvise.com
  3. Buy book for neet – Click here

Please share this post on social media.

1 Comment
  1. Reply
    ऑक्सीजन - परिचय, प्राप्ति, गुण एवं उपयोग | Aliscience June 18, 2020 at 10:42 pm

    […] कार्बन के हैलाइड एवं सल्फाइड […]

    Leave a Reply

    Aliscience
    Logo
    Register New Account
    Reset Password
    %d bloggers like this: