रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार तथा रेडोक्स अभिक्रिया

रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार

रासायनिक समीकरण (Chemical Equation)

किसी रासायनिक अभिक्रिया में काम आने वाले तत्व अथवा यौगिकों को उनके प्रतीक चिन्हों के रूप में दर्शाना रासायनिक समीकरण कहलाता है।

रासायनिक समीकरण के निम्नलिखित अवयव होते हैं-

  1. अभिकारक
  2. उत्पाद

 

अभिकारक (Reactant)

अभिक्रिया में भाग लेने वाले तत्व अभिकारक कहलाते हैं।

उत्पाद (Product)

अभिक्रिया के दौरान बनने वाले तत्व अथवा यौगिक उत्पाद कहलाते हैं।

उत्प्रेरक (Catalyst)

यह अभिक्रिया के वेग को परिवर्तित करने में सहायता करते हैं।

Contents

 

रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार

रासायनिक अभिक्रिया चार भागों में बांटा जाता है-

संयोजन अभिक्रिया (Addition Reaction)

दो या दो से अधिक अभिकारक मिलकर एकल उत्पाद का निर्माण करते हैं। संयोजन या संयुग्मन अभिक्रिया कहलाती है।

A+ B → AB

Mg +Cl2 →  MgCl2

N2 + 2H3 → 2NH3

C + O2  → CO2

2Cu + O2 → 2Cuo

 

वियोजन या अपघटन अभिक्रिया (Dissociation Reaction)

वह अभिक्रिया जिसमें एक अभिकारक टूट कर दो या दो से अधिक उत्पाद का निर्माण करता है।

AB → A + B

वियोजन या अपघटन अभिक्रिया कहलाती है। यह तीन प्रकार की होती है-

 

ऊष्मीय अपघटन या ऊष्मीय वियोजन (Thermal Dissociation)

ऐसी अभिक्रिया जिसमें उष्मा प्रदान करके अभिकारकों को उत्पाद में तोड़ा जाता है, ऊष्मीय वियोजन अभिक्रिया कहलाती है।

CaCO3 → CaO + O2 (गर्म करने पर)

2Pb(NO3)2  → 2PbO + 4NO2 + O2

 

प्रकाशिक अपघटन या प्रकाशीय वियोजन (Photolytic Dissociation )

ऐसी अभिक्रिया जिनमें अभिकारकों को सूर्य के प्रकाश में रखने पर यह उत्पाद में टूट जाते हैं, प्रकाशीय वियोजन कहलाती हैं।

2AgBr → 2Ag + Br2

2AgCl → 2Ag + Cl2

 

विद्युत अपघटन या विद्युत वियोजन (Electric Dissociation)

ऐसी अभिक्रिया विद्युत धारा प्रवाहित करने पर अभिकारक उत्पाद में टूट जाते हैं।

2H2O → 2H2 + O2

 

विस्थापन अभिक्रिया (Displacement Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जिनमें अधिक क्रियाशील तत्व कम क्रियाशील तत्व का स्थान ले लेता है, विस्थापन अभिक्रिया कहलाती है।

Ax + B → Bx + A

2HCl + 2K → 2KCl+ H2

6HCl + 2Al → 2AlCl3 + 3H2

2HCl +2Na → 2NaCl + H2

2HCl + Ca → CaCl2 + H2

 

 

द्विविस्थापन अभिक्रिया (Double Displacement)

ऐसी अभिक्रिया जिनमें आयनों का आदान-प्रदान होता है, द्विविस्थापन अभिक्रिया कहलाती है।

Ax + By → Bx Ay

 

2HCl + K2O →  2KCl+ H2O

6HCl + 2Al(OH)3 → 2AlCl3 + 6H2O

2HCl +Na2O → 2NaCl + H2O

2HCl + CaO  → CaCl2 + H2O

 

 

अभिक्रिया की गति के आधार पर रासायनिक अभिक्रियाओं को दो भागों में बांटा जाता है

मंद अभिक्रिया (Slow Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जिसको संपन्न होने में कई वर्ष, महीनों या दिन लग जाते हैं, मंद अभिक्रिया कहलाती है।

जैसे लोहे के जंग लगना

Fe + O2 + H2O → Fe2O3.3H2O

 

तीव्र अभिक्रिया (Fast Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जो कुछ ही सेकंड में संपन्न हो जाती है।

NaOH + HCl → NaCl + H2O

अर्द्ध आयुकाल (Haft Time)

वह समय जिसमें अभिकारकों की आधी मात्रा उत्पाद में बदल जाती है, अर्द्ध आयु काल कहलाती है। जैसे प्रकाश सश्लेष्ण के लिए इसका मान 10-12SEC होता है।

 

अभिक्रिया की दिशा के आधार पर रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार की होती है-

उत्क्रमणीय अभिक्रिया

अनुत्क्रमणीय अभिक्रिया

उत्क्रमणीय अभिक्रिया (Reversible Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जो दोनों दिशाओं में संपन्न होती है, अर्थात इनमें अभिकारक से उत्पाद बनते हैं और उत्पाद पुनः अभिकारक का निर्माण कर लेते हैं। यह साम्याव्यवस्था पर सम्मान रूप से चलती है।

N2 + 3H2 ⇌  2NH3

 

अनुत्क्रमणीय अभिक्रिया (Irreversible Reaction)

ऐसी अभिक्रिया एक दिशा में ही संपन्न होती है अर्थात अभिकारक उत्पाद बनाते हैं, परंतु उत्पाद पुनः अभिकारकों में परिवर्तित नहीं होते।

 

ऊष्मा के निष्कासन या अवशोषण के आधार पर अभिक्रिया दो प्रकार की होती है-

ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया

ऊष्माशोषी अभिक्रिया

 

ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया (Exothermic Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जिसके दौरान ऊष्मा का निष्कासन होता है ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहलाती है।

C + O2 → CO2 + ऊष्मा

C6H12O6 + 6O2 → 6CO2 + 6H2O + ऊर्जा

ऊष्माशोषी अभिक्रिया (Endothermic Reaction)

ऐसी अभिक्रिया जिसके दौरान ऊष्मा का अवशोषण किया जाता है, ऊष्माशोषी अभिक्रिया कहलाती है।

2HBr → H2 + Br2

 

 

ऑक्सीकरण एवं अपचयन ऑक्सीकरण (Oxidation and Reduction Reaction)

ऑक्सीकरण अभिक्रियाँ

यह निम्न स्थितियों में होती है-

ऑक्सीजन का योग होता है।

2CO + O→  2CO2

Cu + O2 → 2CuO

2H2 + O2 → 2H2O

2Mg + O2 → 2MgO

S + O2 →  SO2
N2 + O2 → 2NO

CH4 + 2O2 → CO2 + 2H2O

Na2SO3 + H2O2 →  Na2SO4 + H2O

2PbO2 → 2PbO + O2

 

हाइड्रोजन का निष्कासन होता है।

H2S + Cl2 → 2HCl + S

CH4 + 2O2 → CO2 + 2H2O

4HI + MnO2 →  MnCl2 + 2H2O + Cl2

CH3OH → CH2O + H2

CO + H2 → CH3OH

4HI + O2 →  2H2O + 2I2

धन विद्युत की तत्व का निष्कासन होता है।

2Fe + 3F2 →  2FeF3

Fe+ S →  FeS

SnCl2 + Cl2 →  SnCl

ऋण विद्युतीय तत्व का योग होता है।

2KI + Cl2 →  2KCl + I

इलेक्ट्रॉन का निष्कासन होता है।

Mg → Mg2+ + 2e

Na → Na+ + e

Ca → Ca2+ + 2e

 

 

अपचयन अभिक्रियाँ

यह निम्न स्थितियों में होती है-

ऑक्सीजन का निष्कासन होता है।

H2O + C →  CO + H2

CuO + C → Cu + CO

Al + Fe2O3 → Fe+ Al2O3

2CO + O→  2CO2

हाइड्रोजन का योग होता है। C2H4 + H2 →  C2H6

 

धन विद्युतीय तत्व का योग होता है।

2FeCl3 + H2 →  2FeCl2 + 2HCl

 

ऋण विद्युतीय तत्व का निष्कासन होता है।

CuCl2 + Cu →  Cu2Cl2

इलेक्ट्रॉन का योग होता है।

Cl + e→ Cl

N + 3e → N3-

 

रेडोक्स अभिक्रियाँ (Redox Reaction)

अभिक्रिया में ऑक्सीकरण तथा अपचयन दोनों साथ-साथ होता है, तो इसे रेडोक्स अभिक्रियाँ कहते है।

Types of Chemical Reation Hindi

इन्हें भी पढ़े

बाहरी कड़ियाँ

रासायनिक अभिक्रिया के प्रकार

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Aliscience
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0
Shopping cart